एक पोर्न स्टार के दिल में मदर टेरेसा... : फ्रेंक हुज़ूर

सोहो में एक बार के सामने फ्रेंक हुज़ूर  
साथियो, मिशेल के साथ मुलाक़ात की फ़ीचर-रपट की दूसरी किश्त पेश कर रहे हैं फ्रेंक हुज़ूर अपनी 'लन्दन डायरी' में. - शशिकांत

मिशेल की हर एक बात में करिश्मा का एहसास हो रहा था, "पोर्नोग्राफी को मैंने कभी भी एक प्रॉब्लम की तरह नहीं देखा है." पोर्नलैंड की इस हसीना से जब मैंने पूछा, "क्या उसे ऐसा नहीं लगता कि पोर्न ने सेक्सुअलिटी को हाईजैक कर लिया है?" तब उसकी आँखों में थोड़ी हरकत हुई. मिशेल ने नज़रों को तेज़ किया और कहा, "पोर्नोग्राफी को पब्लिक सिर्फ़ कामुकता  की माफिक क्यों लेती है?  पोर्नोग्राफी मेरी नज़र में तालीम है. हाँ, अगर आप ऐसा सोचते हैं कि टीनेज बच्चों पर क्रूर, हिंसक पोर्न का बुरा असर होता है तो फिर जिस तरह आप उन्हें सिगरेट पीने से रोकते आए हैं, उसी तरह पोर्न से भी बेपर्दा कर दीजिये. भला ये भी कोई मसला है क्या?"

मिशेल ने हैरानगी की इन्तहाँ जारी रखी, जब उसने यह कहा, ^मासूम बच्चे जब बिन लादेन के वीडियो देखे और विडियो गेम खेले तब उनका दिमाग़ ख़राब नहीं होता है और जब उनकी आँखों के समंदर में हमारी सेक्सुअल एक्ट आ जाए तो जलजला आने लगता हैं? मैं भी तो एक टीनेजर ही थी जब मैंने सेक्स के सीक्रेट गार्डेन में वॉक किया था. हाँ यह ज़रूर है कि तब पोर्न मोबाइल फ़ोन, वीडियोगेम और लैपटॉप पर आना शुरू ही हुआ था. सभी उसी उम्र में ज़िन्दगी की इस बेहद हसीन सौगात से रू-ब-रू होते हैं."

"पोर्न इज़ हार्मलेस दैन लादेन", मिशेल ने चुलबुलाहट भरे अंदाज़ में कहा और मेरे मार्लबोरो लाइट सिगरेट के पैकेट की तरफ़ अपने मिडल फिंगर से इशारा किया. मैंने थोड़ी भी बेवफाई मिशेल के इस शौक़ से नहीं की और बेहद जल्दबाजी में सिगरेट का स्टिक उसके सुर्ख होठों के बीच टांग दिया. मैंने अपने लायटर जिसका नाम 'केंट' था, से चिंगारी निकाल मिशेल के होठों के बीच झूल रहे मार्लबोरो सिगेरेट को आग के हवाले कर दिया. मिशेल ने सिगेरेट के जलते ही एक लम्बा कश खीचा और लायटर को मेरे राइट हैण्ड से अपने राइट हैण्ड में ले लिया. उसकी आँखों ने लायटर के सिलिंड्रिकल छाती पर लिखे मैसेज को ग़ौर से पढ़कर सुनाया- "अ वार्निंग–कीप अवे फ्रॉम चिल्ड्रेन!" जैसे ही यह लफ्ज़ उसके होठों को चुमते हैं, गरम फिजा में दाखिल मेरे चेहरे पर थोड़ी हंसी आ जाती है.

"मैं सो रहा था मुक़द्दर के सख्त राहों में, उठा ले गए जादू तेरी नज़र के."  नासिर काज़मी का यह तरन्नुम नज़्म हौले-हौले असर करने लगा था. क़रीब एक दशक के दिलकश सफ़र में क्या कोई गिला शिकवा है भी या नहीं? मैंने मिशेल की आँखों में झाँका और अपने जवाब का इंतज़ार करने लगा. रूबी के रंग की माफिक उसकी आँखों में चमक आती और फिर गायब हो जाती. मैंने इटलियन वाइन 'वल्पोलिसल्ला' से अपने मन को बहलाने का इंतज़ाम कर लिया था.

मिशेल की बातों में वाइल्ड बेर्रिज़ जैसे नशे का सुरूर था. "गिला-शिकवा तो ज़िन्दगी के दिन रात की तरह है", मिशेल ने कहा. "वक़्त के साथ-साथ पोर्न इन्डस्ट्री भी बहकने लगी है. जब मैंने आगाज़ किया था तब क्लासिक पोर्न का दौर था. हॉलीवुड की फिल्मों की तरह पोर्न की भी अपनी पटकथा थी. कॉस्‍ट्यूम सुंदर होते थे. लोकैलिटी, महलों से लेकर झीलों के किनारे तक अजीब समा होता था. रोमांस हर सेक्सुअल अदा में झलकती थी. म्यूजिक और साउन्ड का अलग ही इफे़क्ट था. हर एक सीन पर हमें एक फीचर फिल्म के अदाकार की तरह रिहर्सल करना होता था. बदले हुए ज़माने ने आज पोर्न इन्डस्ट्री को फास्टफूड जैसा बना दिया है. उसी ने इसमें क्रुएल्टी और हिंसा परोसने का जुर्म किया हैं."

मिशेल ने अपनी फिल्मों के हवाले से ये कहकर मुझे उत्साहित कर दिया कि उसने तक़रीबन हर चरित्र को निभाया है चाहे वो एक प्रिंसेस हो या किचन में डिश वाश करने वाली मेड और हर उस अदां में सेक्सुअल एक्ट को जीया है. तो फिर उसे किस एक्ट में ज्यादा सुकून का एहसास हुआ और कौन सा एक्ट उसके लिए परेशानी का सबब साबित हुई? मिशेल मुस्कुराने लगी. बोली- "क्या करोगे हर उस अदा के पैमाने को जानकर?" 

मैंने कहा, "मेरी इसमें गहरी दिलचस्पी है और फिर तुम्हारे पास छुपाने के लिए है ही क्या?" गिनीज बीअर के ग्लास को किनारे करने के बाद उसने बार टेंडर को रेड वाइन पेश करने का फ़रमान दे दिया. अब तक हम दोनों ने फायर प्लेस के ठीक सामने खाली हुए दो स्टूल को झटक लिया था. आग की सुहानी लपटें मिशेल के गालों पर झिलमिल रौशनी की तरह जगमगा रही थी.

रेड वाइन के एक शिप के बाद उसके गुलाबी होंठ पके हुए रेड चिली की तरह और सुर्ख हो गए. वह बोली, "पोर्न फिल्मों की शूटिंग एक पार्लर की तरह है. एक अदाकारा के जिस्म के हर हिस्से को सजाया जाता हैं. हमारी फिल्मों में न्यूड बॉडी का जबरदस्त जश्न है. मुझे सबसे ज्यादा सुकून मेरी पहली फिल्म में आया था, जब मुझे एक प्रिंसेस का रोल करना था, जिसे उसका अंगरक्षक दीवानगी की आग में धकेल देता हैं. 

जब भी मेरा बॉडीगार्ड मुझे कहीं भी लेकर जाता, वो लोकेशन अक्सर किसी ब्लू लेक का किनारा होता या किसी शानदार किले का कोई आँगन या दीवारें. मुझे प्रिंसेस के गाउन को कुर्बान कर देना होता था और उसके दोनों जांघों के बीच अपने सर को दफ़न कर लेना होता था. अक्सर यह सिलसिला ऐसे ही चलता, मगर बॉडीगार्ड हीरो को मुझे ब्‍ल्यू लेक के कोल्ड वाटर में डुबाने का ज्यादा रोमांच होता था. और जब मेरे प्रिन्स को हमारे एक्ट के हवाले से खबर होती है तो वो बॉडीगार्ड के स्ट्रेट डिक को खून से नहला देता हैं."

यह कहते हुए मिशेल ने एक सवाल दाग़ा, "तुमने वो फिल्म देखी है, टिंटो ब्रास की निर्देशन वाली– "कालिगुला?" 1979 में पेंट हाउस प्रॉडक्‍शन के बॉब गुचिओं के साथ मिलकर ब्रास ने हॉलीवुड की सबसे विवादस्पद फिल्म "कालिगुला" बनायी थी, जिसमें ब्रिटिश एक्टर मैल्कम मैक्‍ड्वेल ने कालिगुला की सेक्सुअल पर्वर्जन वाली ज़िन्दगी को सिल्वर स्क्रीन पर अमर कर दिया था."
मैंने बहुत ही कॉन्फिडेंस के साथ मिशेल को जवाब दिया, "हाँ मैंने "कालिगुला" देखी है और मैंने उसको काफ़ी एन्जॉय किया है."

मिशेल ने फिर कहा, "‘कालिगुला" यूँ तो पोर्न फिल्म नहीं थी मगर पेंट हाउस के पोर्न फिल्मों का सबसे एरोटिक प्रयोग इसमें किया गया है और उसके शॉट्स हमारे लिए चार्ली चैपलिन के सिनेमा की तरह हैं. कालिगुला को अपनी तीनों बहनों- अग्रिपिना, दृस्सिला और जुलिया से भी मोहब्बत हो गयी थी और उस फिल्म में उन्हें न्‍युड और सेक्सुअल एक्ट में बेहद ही रोमांचक तरीके़ से फिल्माया गया था. इन्सेस्ट को परदे पर ग्लैमराइज़ करके ब्रास ने तहलका मचा दिया था. जब कालिगुला को निकाह की ज़रूरत पड़ी तो उसने रोम के सबसे मशहूर तवायफ़ से निकाह करके सबको भौंचक्‍का कर दिया था."

मिशेल को पोर्न फिल्मों में इन्सेस्ट सेक्स के फिल्मांकन से कोई दिक्कत नहीं है. उसकी नशीली निगाहों में मैंने थोड़ा सुहाने भरम को टूटते हुए पाया. "इन्सेस्ट एक सोशल मर्ज़ है. इसका इलाज सिनेमा नहीं है. हमारी पोर्न फ़िल्में सिर्फ़ इस मर्ज़ का परदे पर नक़ल करती हैं. ये चुराई हुईं भी स्क्रिप्ट नहीं, बल्कि सीधा-सपाट अफसाना है. यह दुनिया का ऐसा दस्तूर है जिससे हम सब कभी भी आज़ाद नहीं हो पाए हैं."

फ्रेंक हुज़ूर
रात ढलने लगी थी और 'हार्प' पब के गरम फ्लोर पर रौशनी जगमगाने लगी थी. बूट और नुकीले संदल के शैडो ग़ायब हो रहे थे. मिशेल कभी अपने  बालों को हल्का-सा सहलाती और फिर रेड वाइन की ठंडी चुस्की लेती. करीब हर पंद्रह मिनट बाद वो अपनी उँगलियों के बीच सिगरेट भी दबा लेती. मैंने उससे ओर्गिज़ के हवाले से तफ़सील में जानने की ख्वाहिश को बेपर्दा कर दिया. उसने शरारत भरी मुस्कान के साथ मेरे सवाल का इस्तकबाल किया. 

मिशेल ने जब बोलना शुरू किया तो मैंने महसूस किया कि उसकी आँखों की महफ़िल में कोई समा नहीं था और न ही उसे किसी परवाने की दरकार थी. "मेरी पहली ओर्गिज़ क़रीब एक साल के बाद हुई थी. आंद्रे के पापा स्टॉकहोम के बाहर अपार्टमेन्ट बुक करते और क़रीब 12-15 अदाकारों की कास्ट होती. मुझे न्‍यूड होने के बाद वे मेरे ब्रेस्ट के साथ थोड़ा खेलते और फिर अपने हाथों से बुट्टोक पर हरक़त करते और फिर कैमरा और फ्लश के हवाले कर देते. मुझे एक पूल टेबल पर लेट जाना था और एक साथ तीन एक्टर को अपने माउथ के सलीवा से खेलना था और दो एक्टरों को अपने हाथों से बहलाना था और दो और एक्टर को अपने बूट पहने लेग्स के दरमयान जिस तरह घोस्ट ट्रेन सुरंग के अन्दर जाती है, उसी तरह सैर कराना था. यह सिलसिला क़रीब चार घंटे तक चलता रहा. जब कभी मुझे युरिनेशन का एहसास होता और मैं उठने की जदोजहद करती, मेरे पोर्न एक्टर मेरे से थोड़े खफा होने लगते.जब मेरे हमसफ़र अदाकार इजेकुलेशन के पिक पर होते तब उनके स्पर्म के धागे मेरे बदन पर गिरते, कुछ मेरे बालों पर साया हो जाते, कुछ मेरी जांघों में लिपट जाते और कुछ मेरे होठों से ऐसे चिपक जाते जैसे प्लास्टिक किसिंग का खेल हो रहा हो. क़रीब हर पोर्न स्टार मेरे चेहरे को स्पर्म के सैलाब में डूबा देने में नशीला मज़ा का एहसास करता. मुझे ये बेहद अज़ीब सा लगता मगर इस तूफान को कौन रोक सकता है? पूरे हॉल में मैं और लड़कियों को इसी तरह जिस्म के इस रस्म को वफ़ा के साथ निभाते हुए देखती. धीरे-धीरे मुझे कपड़ों में अपने को देख के अजीब सी परेशानी होती और ऐसा लगता जैसे ये खामोशी का कोई अफसाना है. जब भी मैं अपने बदन को रेशम के कपड़ों से आजाद कर लेती, मुझे अपने होने का एहसास होने लगता. पोर्न के पार्लर में किसी भी लड़की को कपड़ों में ख़ूबसूरत नहीं बल्कि बदसूरत कहा जाता है."

मिशेल के इस ख़याल से भी मेरे दिल-ओ-दिमाग़ पर गहरा असर साया हुआ, जब उसने कहा, "पोर्न इन्डस्ट्री हर लड़की को बाय-सेक्सुअल बना देती है और बहुत सारे लड़कों को गे-सेक्स के लिए उत्साहित करती है. शायद ही कोई पोर्न स्टार होगी जो लेस्बियन टेंडेंसी ना रखती हों." वह पोप के कंडोम वाले कमेन्ट पर दिल खोल कर हँसी और वे‍टिकन सिटी के ‘कंडोम लव’ को ‘फेक लव’ का सुरूर करार दिया.

"कंडोम एंड सेक्स आर नोट नेचुरल पार्टनर. अ पोर्न स्टार यूजे़ज़ कंडोम ओनली टू प्रोमोट पापा पोप्स मेसेज ऑफ़ सेफ सेक्स." मिशेल ने यह कह कर मुझे भी हंसीं से लबरेज कर दिया कि जाने क्यों दुनिया में लोग ‘बलून सेक्स’ के दीवाने होते जा रहे हैं. जब कंडोम नहीं था तो एड्स कहां था? कंडोम और एड्स दोनों का इज़ाद एक ही वक़्त में शुमार हुआ लगता है!

"सबसे खौफ़नाक मंज़र तुम्हें किस तरह के फिल्मिंग में लगी?" मिशेल ने थोड़ा-सा अपने हाथी जैसे मेमोरी को हिलाया और कहा, "वो सीन जिसमें मुझे एक कब्रिस्तान में ताबूत के ऊपर फूलों के गुलदस्तों को रखने के लिए झुकना था और मेरा को-स्टार मेरे ग़मगीन काले लिबास को मेरे बुट्टक के ऊपर फ़ना कर देता है." शूटिंग के बाद जब मैंने फिल्म देखी तो मुझे अपने दिल और दिमाग़ पर जैसे ऐतबार ही ना रहा. क़रीब एक महीने तक मैंने कोई वीडियो शूट नहीं किया था. मेरे पूरे पोर्न करियर में ये वो ग़मज़दा लमहा था,  जब मुझे लगा मैंने अपने को ख़तरनाक वोयर्स के हवाले कर दिया है और सब के सब राजदार है यहां. उसके बाद मैंने दुबारा इस तरह के मातम के माहौल में नशीला पोर्न सेक्स शूट करने का ख़याल हमेशा के लिए कुर्बान कर दिया."

मिशेल ने पोर्न स्टार के पेमेंट को बेहद ही रोचक बताया, "जहाँ एक टॉप स्टार को एक फिल्म के लिए दस हज़ार पौंड से लेकर बीस हज़ार पौंड तक मिलते हैं वहीं ओर्गी के स्टार को पचास हज़ार पौंड तक का भुगतान किया जाता है, मगर इसका दूसरा पहलू यह है कि सीडी और डीवीडी सेल के ऊपर कोई रॉयल्टी इन्हें नहीं दी जाती. यह सिलसिला लन्दन, पेरिस और न्यूयार्क के ब्लू सलूनों पर बदस्तूर जरी है. मगर इतना बेहतरीन पेमेंट यूरोप के दूसरे मुल्कों के पोर्न इन्दुस्ट्री में नहीं होता." 
उम्र के ढलान पर मिशेल अब पांच हज़ार पौंड की भी अदाकारा नहीं रहीं, जैसा कि दस्तूर है यहाँ. हर रोज़ पोर्न स्टूडियो नए टीनेज हसीनाओं की तलाश में लगे रहते हैं और गुल्फरोश हसीनाओं की कोई कमी नहीं है यहाँ. मिशेल ने जो सफ़र एक हज़ार डॉलर से आगाज़ किया था उसका एख्तेताम आज उसी कीमत पर हो रहा है.

"क्या करोगी तुम, जब तुम्हारे लिए पोर्न फिल्मों के ऑफर बिलकुल ही बंद हो जाएंगे?" मिशेल की आवाज़ में थोड़ी सी लचक आई, "आई विल बीकॉम हेड मिस्ट्रेस ऑफ़ टीनेज पोर्न स्टार. मेरा काम उन्हें सेक्सुअल फंतासी के मुख्तलिफ अवामों से दीदार कराना होगा. एक खातून की कीमत पोर्न इन्डस्ट्री में सेब की तरह होती है. सेब जितना ताज़ा होगा उतना ही उसका जश्न-ए-दीदार होगा और जब वो पुराना पड़ने लगेगा, शेयर मार्केट के लुढ़कते हुए स्टॉक की तरह वो आवारा पैसों में नीलम होता रहेगा."

जिस्म के इस पार्लर में सुहानी कीमत का यह सौदा हमारे हिंदुस्तान और दूसरे एशियाई मुल्कों के पोर्न इन्डस्ट्री के मुकाबले काफी शानदार है. क्या बॉलीवुड, कॉलीवुड या फिर मॉलीवुड के पेट में सरपट दौड़ती पोर्न इन्डस्ट्री उन मासूम लड़कियों का इतना एहतराम करती है, जो बहला-फुसला के कैमरा के आगे या फिर चोरी-छिपे फिल्मों के बाज़ार में परोस दी जाती है? सवाल और जवाब से हम सब अच्छी तरह मुखातिब है. मिशेल के साथ के इस जुस्तजू भरी शाम के आखिरी मंज़र में मैंने उससे पूछ ही लिया, "तुम्हारा दिल यह सोच कर कभी उदास नहीं होता कि तेरा कोई एक हमसफ़र नहीं है?" मिसेल ने अपनी झील-सी गहराई वाली आँखों से अपना जवाबतलब कर दिया, "सिर्फ तेरे बदन की शमा जले और हम सब उसमें डूब जाने की आरजू लिए आते रहें." 

सोहो के वार्डोर स्ट्रीट में एक पीप शो का पार्लर है, जहाँ तमाशाइयों को पंद्रह पौंड देकर लाइव सेक्स एक्ट का लुत्फ़ उठाने का मौका मिलता है. जब हम सब पीपिंग टॉम के करेक्टर में गुल्फरोशी की शमा जलाते रहेंगे, मिशेल कुछ पल के लिए आबाद रहेगी, हर पल के सार-ए-बज़्म में वह सुकून के लिए तड़पती रहेगी!

मिशेल रवांडा और सोमालिया में तीन बच्चों को अडॉप्‍ट कर चुकी है. उनका सारा ख़र्च उठाती है, अगर वो रुपहले परदे की मडोना होती तो पूरी दुनिया उसका इस्तकबाल कर रही होती. चाइल्ड ट्रेफिकिंग के स्‍पाइडर वेब से वो लोलिता के उम्र में हम सबके सीक्रेट गार्डेन को गुलज़ार करने के लिए आई थी. मुझे यह जानकार फ़क्र हुआ कि मिशेल के दिल में मदर टेरेसा है ,और उसके बदन में लोलिता से लेकर, मर्लिन मुनरो और मैडोना भी है.

(फ्रैंक हुज़ूर अंग्रेजी के लेखक और स्वंत्रत पत्रकार हैं. क्रिकेटर इमरान खान पर उनकी लिखी  जीवनी, ‘इमरान वर्सेस इमरान : द अनटोल्ड स्टोरी’ जल्द ही आनेवाली है. उनसे frankhuzur@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है.)

टिप्पणियाँ

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पाठालोचन की नई प्रविधि है ‘कामायनी-लोचन’

अटल बिहारी वाजपेयी - सेक्स और राजनीति का रिश्ता

लैंगिक विकलांगता और भारतीय समाज