किसान विरोधी है फिल्म पीपली लाइव


"फिल्म में दिखाया गया है कि पैसे की खातिर किसान आत्महत्या करते हैं. यह सरासर ग़लत है. लगातार फसल खराब होने और बैंक के क़र्ज़ न चुका पाने की वजह से मज़बूर होकर किसान आत्महत्या कर रहे हैं..." आत्महत्या करनेवाले एक किसान की बेवा ने कैमरे के सामने कहा. 

विदर्भ में पंद्रह अगस्त, रविवार को आमिर ख़ान के विरोध में हज़ारों किसानों ने प्रदर्शन किया. 

आत्महत्या करनेवाले किसानों की विधवाओं, उनके अनाथ बच्चों और उनके परिवार के सदस्यों ने आज आमिर ख़ान का पुतला फूँका. 

ये क्या कर दिया आपने आमिर भाई, अनूषा जी और महमूद भाई? 

एक लाख रुपये की खातिर किसान आत्महत्या करते हैं? 

एक ग़रीब किसान का भाई ही पैसे के लोभ में अपने भाई को आत्महत्या करने के लिए बाध्य करता है? 

भाई-बहन, वाकई आपने ये सब यदि फिल्म में दिखाया है तो भयानक है. 

आपकी यह फिल्म पूरी तरह किसान विरोधी है. 

अरे, आप दिल्ली, बम्बई वाले  क्या जानें किसानों को? 

नहीं कुछ तो यह फिल्म बनाने से पहले प्रेमचंद की "पूस की रात" कहानी ही पढ़ लेते. 

आपलोगों ने सारा मज़ा किरकिरा कर दिया.


हिन्दुस्तान के किसान ईश्वर, खुदा, जीसस या कहें वाहे गुरु होते हैं. किसानों को अमूमन मुनाफ़ा नहीं होता. वे नो प्रॉफिट नो लौस पर खेती करते हैं. 

जो फसल उपजाते हैं, उसे खुद नही खाते, गाय-भैंस पोसते हैं लेकिन सारा दूध बेच देते हैं,ना खुद खाते ना अपने मासूम बच्चों को खिलाते हैं, मज़बूरन.

(मैं बिहार के एक किसान परिवार से हूँ और मेरे तीनों बड़े भाई खेती करते है. उन तीनों की सालाना आमदनी से ज़्यादा अकेली मेरीसालाना आमदनी है. जबकि मेरे पास दिल्ली में  कोई नौकरी नहीं है, फ्रीलांसिंग करता हूँ.)


..और ऐसे किसानों का आपने अपनी "पीपली लाइव" फिल्म में मज़ाक उड़ाया है? 

आपलोगों ने ठीक से  होमवर्क नहीं किया.यह अच्छी बात नहीं है आमिर भाई, अनूषा रिज़वी और महमूद फारूकी जी. 

माफ़ कीजिएगा.
-शशिकांत

टिप्पणियाँ

  1. pahle picture dekho fir us par comment karo.garibi aur bhukhmari sab kuch karva deti hai.kisan atmhatya kar rhe hai, ye sach hai to,uske liye vyastha aur sarkar doshi hai na ki film.film ek content ko lekar chalti hai, uska mul maksad munafa kamana hota hai..aur agar eske sath samaj ki samasyayen dikhayee jati hai to film apane aap me safal ho jati hai..mahgayee badh gayee hai eske liye picture aur amir khan ko dosh dena thik nhi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पाठालोचन की नई प्रविधि है ‘कामायनी-लोचन’

अटल बिहारी वाजपेयी - सेक्स और राजनीति का रिश्ता

लैंगिक विकलांगता और भारतीय समाज